Future Aur Options Trading Kya Hai ? हिंदी मे पूरी जानकारी |

क्या आप जानते है कि फ्यूचर्स और आप्शन ट्रेडिंग क्या है अगर आप नही जानते तो कोई बात नही आज हम आपकी इस समस्या का हल ले कर आये और हम आज आपको इस आर्टिकल के माध्यम से फ्यूचर्स और आप्शन ट्रेडिंग के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी देंगे |

फ्यूचर्स एक बिक्री का प्रतिनिधित्त्व करते है जो भविष्य मे बनाया जायगा |यह एक अनुबध है की खरीदे बर्तमान अवधि के कुछ समय बाद होंगी | विकल्प स्टॉक को खरीदने या बेचने का विकल्प है , विकल्प आगे पूत और कॉल विकल्पों मे टूट जाते है,जिन्हें हम निचे खोजते है | वायदा और विकल्प मे उनकी समानताऐ है लेकिन विभिन्न  स्थितियो मे कारोबार किया जाता है |

शेयर बाज़ार मे निवेश और ट्रेडिंग के लिए कई प्रोडक्ट प्रदान करता है | उनमे से कुछ म्यूच्यूअल फण्ड , इक्वटी , आईपीओ , NCD, ब्रांड , डेरिवेटिव आदि है | फ्यूचर्स और विकल्प भी इसी category मे आते है | डेरिवेटिव्स अनुबध है जो दो पक्षों के बीच एक निश्चित मूल्य और निश्चित समय पर अन्तनिहित परिसम्पति को खरीदने या बेचने के लिए तैयार किये जाते है |

फ्यूचर ट्रेडिंग और आप्शन ट्रेडिंग मे आप विभिन्न एक्सचेंजों पर स्वतंत्र रूप से व्यापार कर सकते है आप स्टॉक एक्सचेंजों पर स्टॉक फ्यूचर और आप्शन का ट्रेडिंग का व्यापार कर सकते है , कमोडिटी एक्सचेंजों पर कमोडिटी आदि | फ्यूचर और आप्शन ट्रेडिंग मे आपको एक लाख रूपये के शेयर या कमोडिटी मे ट्रेडिंग करने के लिए केवल दस हजार रूपये की जरुरत पडती है क्युकी आपको उसका पूरा दम चुकाने के बजाय दस –तीस प्रतिशत मार्जिन पर शौदा करने का मौका मिलता है आप इसी वस्तुओ को खरीदे बिना उसकी कीमतों मे उतार-चढाव का लाभ उठा सकते है |

फयूचर ट्रेडिंग क्या है ?

फ्यूचर ट्रेडिंग जैसा की नाम से ही जाहिर होता है कि भविष्य मे होने वाली सादेबाजी के लिए आज की तारिक मे एक निश्चित दर  पर निश्चित मात्रा के लिए खरीद या बिक्री के लिए एक contact करना ही फ्यूचर है | फ्यूचर ट्रेडिंग मे जैसे स्टॉक , करेंसी, और कमोडिटी,मार्किट मे सब मे फ्यूचर ट्रेडिंग होती है | शेयर बाज़ार मे फ्यूचर ट्रेडिंग जिस प्रकार हम अलग अलग बितिय उपकरणों जैसे ब्रांड,शेयर, आदि मे निवेश करते है उसी प्रकार डेरिवेटिव मे भी निवेश किया जाता है | शेयर बाज़ार मे होने वाली फ्यूचर एवं आप्शन ट्रेडिंग ऐसा ही निवेश है | फ्यूचर ट्रेडिंग मे फ्यूचर अनुबध इ प्रकिया अपनाई जाती है तथा स्टॉक एक्सचेंज मध्यस्थ की भूमिका मे कार्य करते है , ताकि निवेशको के हितो का सरक्षण किया जा सके |

किसी शेयर की खरीद या बिक्री वास्तविक समय मे होती है | फ्यूचर ट्रेडिंग भविष्य मे बिक्री या खरीद करने का एक अनुबध है | एक वायदा अनुबध मे एक खरीदार और एक विक्रेता होता है , जो दोनों सहमत होते है की किसी सम्पति को एक विशिट दिन पर एक विशिट मूल्य के लिए खरीदा या बेचा जायेगा |

ये सम्पति डॉव जोन्स इंडस्ट्रियल इंडेक्स की तरह एक कमोडिटी एक मुद्रा या एक इंडेक्स भी हो सकती है वायदा अनुब्धो के लिए एक सामान्य उपयोग कमोडिटी बाजारों के भीतर मूल्य निधरित की अस्थिरता को दूर करना है |

फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट्स का वोलियम इस बात का सकेत हो सकता है कि शोर्ट टर्म मे प्राइस या इंडेक्स कहा जाएगा , लेकिन फयूचर वोल्यूम को समझने के लिए कुछ सूक्ष्मताए है | एक अन्य तत्व पर विचार किया जाना चाहिए जिसे ओपन इंटरेस्ट कहा जाता है , जो मापता है की कितने आदेशो को निष्पादित नही किया गया है |

एक फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट दो पक्षों के बीच भविष्य मे एक निर्दिष्ट तिथि पर किसी विशेष मूल्य पर अन्तनिहित सम्पति को खरीदने या बेचने के लिए एक समझोता है |  अंतर्निहित प्रिस्म्प्ती किसी भी सम्पति जैसे शेयर्स या वस्तुओं जैसे सोना , गेहूं , तेल या यहाँ तक की ब्रांड भी हो सकती है | यहां कुछ भी होने के बाबजूद निधारित तिथि पर सम्पति  खरीदने या बेचने के लिए पार्टियों के बीच एक दायित्त्व या प्रतिबद्वता है | अनुबध की शर्ते इन दोनों पर बाध्यकारी है |

 

आप्शन ट्रेडिंग क्या है ?

आप्शन ट्रेडिंग मे ऐसा होता है कि जब आप कुछ सम्पति खरीदने की योजना बनाते है तो आपने अन्य आप्शन का मूल्याकन करने के दौरान यूज़ कुछ समय के लिए होल्ड करने के लिए नॉन-रिफंडेबल डिपोजिट रखा हो तो ये आप्शन के प्रकार का उदारण है | स्टॉक आप्शन खरीदना भी कुछ ऐसा ही है आप्शन वे अनुबध है जो निश्चित समय के भीतर धारक को निश्चित मूल्य पर निश्चित स्टॉक की तय मात्रा बेचने या खरीदने का अधिकार देते है कोई पुट आप्शन धारक को प्रतिभूति बेचने का अधिकार देता है , ओई कॉल आप्शन प्रतिभूति खरीदने का अधिकार देता है हलाकि इस प्रकार के अनुबध धारक को अधिकार देता है , बल्कि निश्चित दिनाक  से पहले निश्चित मूल्य पर स्टॉक व्यापार करने की कोई बद्यता नही देते है | कुछ निवेशको को आप्शन बहुत उपयोगी साधन लगता है क्युकी यह इन्हें निन्म तरह से यूज़ कर सकते है जैसे –

आप्शन ट्रेडिंग के प्रकार –

आप्शन ट्रेडिंग दो प्रकार की होती है या यु कहे की इसमें दो आप्शन शामिल होते है – जैसे आप्शन के खरीदार और आप्शन के विक्रेता | और इसमें खरीदार को अपने आप्शन को इस्तेमाल करने या न करने का पूरा अधिकार होता है लेकिन यदि खरीदार इसको बेचने का फैसला कर ले तो विक्रेता इसे बेचने के लिए बाध्य होते है | एकोप्तिओं कॉन्ट्रैक्ट को लिखना और बेचना बहुत मुश्किल होता है लेकिन सही समय पर सही कदम उठाए जाने पर इसमें बहुत लाभ भी हो सकता है |

कॉल आप्शन

आप्शन ट्रेडिंग दो तरह का होता है एक है कॉल और दूसरा पुट आप्शन | ट्रेडिंग मे आप दोनों तरफ पैसा लगा सकते है | आप यदि कॉल खरीद रहे हो तो तेजी की तरफ पैसा लगा रहे हो ठीक उसी तरह पुट खरीदने हो तो मदी की तरफ पैसा लगा रहे हो | आप जिस प्राइस के ऊपर कॉल खरीदा उसके ऊपर का प्राइस जाने के बाद ही आपको फायदा होंगा | और इसी प्रकार से पुट खरीदा तो जिस प्राइस के ऊपर खरीदा उसके निचे गया तो ही आपको फायदा होंगा |     

पुट आप्शन

पुट आप्शन एक आप्शन ट्रेडिंग कॉन्ट्रैक्ट जिसमे खरीदार को अपनी आधारभूत फाइनेंसियल को भविष्य मे निधारित समय के दौरान निर्धरित मूल्य पर बेचने का अधिकार होता है | इस तरह से सिक्योरिटीज का मालिक अपनी सिक्योरिटीज की सेल  वैल्यू को पूर्व मे निर्धारित करके मार्किट मे होने वाली गिरावट के खिलाफ खुद को सुरक्षित कर सकता है | इसके आलावा अगर सिक्योरिटीज की कीमत समान रहती है या बढ़ जाती है तो वो आप्शन का प्रयोग न करके आगे होने वाले प्रॉफिट का विकल्प चुन सकता है |

फ्यूचर और आप्शन ट्रेडिंग मे समानताए –

फ्यूचर ट्रेडिंग और आप्शन ट्रेडिंग मे इन दोनों मे ही एक साधारण प्रकार का बीमा हो सकता है | इसके आलावा फ्यूचर ट्रेडिंग और आप्शन मे मार्जिन खातो की आवश्यकता पडती है | यह इसको पूरी तरह से बाहर नही रखता है लेकिन खाते के लिए एक तीसरे पक्ष के सरक्षक को स्थापित किया जाना चाहिए |

F&O मे अंतर –

  1. फ्यूचर अनुबध केवल अंतर्निहित परिसम्पति को अनुबध मे निर्दिष्ट तिथि पर कारोबार करने की अनुमति देता है | लेकिन विकल्प समाप्ति तिथि से पहले किसी भी समय विकल्पों का उपयोग किया जा सकता है |
  2. फ्यूचर और आप्शन भी एक व्यापार बनाने की आवश्यकता मे भिन्न होते है | फ्यूचर एक व्यापार की तरह है जिसमे जो कुछ भी भी व्यापार किया जाता है लेकिन दूसरी और विकल्प बिलकुल भी प्रयोग करने की आवश्यकता नही है |

निष्कर्ष –

ये थी फ्यूचर और आप्शन ट्रेडिंग के बारे मे जानकारी | उम्मीद है की आपको आप्शन और फ्यूचर ट्रेडिंग से सम्बधित जितनी भी समस्या या आपके मन मे  सवाल है उनको सुलझाने मे ये आर्टिकल आपकी सहायता करेगा अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आये तो इसे अपने फ्रेंड्स के साथ जरुर शेयर करे

धन्यवाद |

Leave a Reply