Plagiarism Kya Hai? 8 Best Plagiarism Checker Tools

Plagiarism Kya hai

Plagiarism kya hai(What is Plagiarism in Hindi)? क्या आपने कभी इसके बारे में सुना है?

जो लोग blogging करते हैं, website ओनर हैं या जो SEO एक्सपर्ट हैं वो अच्छी  तरह से जानते होंगे की plagiarism kya hai.

लेकिन जो नए blogger हैं उन्होंने इसके बारे मेंही सुना होगा|

तो आज हम आपको इस plagiarism के बारे में डिटेल से सारी जानकारी देंगे| 

तो चलिए इसके बारे में जानते हैं…. 

Plagiarism उसे कहते है , जो किसी व्यक्ति की भाषा शब्दों विचारो को कॉपी करके और उस व्यक्ति को क्रेडिट दिए या रिफरेन्स दिए बिना उसे अपने काम के रूप मे दिखाने का कार्य करता हैं|

अगर आप ब्लॉगर हो तो आपको seo के बारे मे जरुर पता होना चाहिए , क्युकी प्लागारिस्म या कॉपी कंटेंट seo का एक महत्वपूर्ण विषय हैं |

अगर मे एक ब्लॉगर की अहमियत से बताऊ – तो किसी दुसरे व्यक्ति  के  वेब साइट या blog से content , इमेज, व् अन्य आइडियाज को कॉपी करके अपने वेब साइट या ब्लॉग मे पब्लिश करने को plagiarism  कहते हैं|

यह एक  प्रकार से दुसरो के विचारो को चोरी करके दुसरो की मेहनत को धोखा देने का काम करता है

साधारण भाषा मे कहे तो plagiarism एक तरह से दुसरो के कंटेंट को कॉपी और पेस्ट करने का काम है जिसका मतलव किसी दुसरे के कंटेंट या आइडियाज को पूरा कॉपी करके उस व्यक्ति की परमिशन के बिना अपने काम मे इस्तेमाल करना|

यह एक प्रकार की चोरी का काम हैं,जो किसी व्यक्ति के काम या विचारो को चुरा कर खुद उस पर काम करता हैं|

Plagiarism का पता कैसे लगाएं?

हम उम्मीद करते हैं आप अच्छी तरह से जान गए होंगे की plagiarism kya hai

लेकिन अब आपके में यह सवाल होगा की content में plagiarism का पता कैसे लगए?

तो अपने content में plagiarism का पता लगाने के लिए आप online plagiarism checker tools का इस्तेमाल कर सकते है|

अब आपके मन में यह सवाल होगा की plagiarism checker tools कौन से होंगे?

तो आपके लिए हमने नीचे plagiarism checker tools की लिस्ट शेयर की है जिसे आप देख सकते हैं|

Plagiarism Checker क्या है ?

प्लागिअरिस्म चेकर एक ऐसा टूल या सॉफ्टवेयर है जिनकी मदद से ये पता कर सकते है कि हमारा कंटेंट कॉपी किया हुआ है या यूनिक कंटेंट है| 

इसके साथ ही साथ ये पता चल जाता है कि अगर कंटेंट कॉपी है तो किस सोर्स या ब्लॉग या वेब साइट से कॉपी है|

 Plagiarism चेकर टूल हमे ये भी बता देता है कि हमारे कंटेंट टेक्स्ट मे कितना प्रतिशत कंटेंट कॉपी किया हुआ है|

प्लागिअरिस्म चेकर टूल आसानी से इंटरनेट पर मिल जाते है जो कि यह फ्री और paid दोनों मे उपलब्ध है|

ये टूल पुरे इन्टरनेट को स्कैन करते है जिससे इन्टरनेट यूजर्स  को अपने टेक्स्ट मे plagiarized कंटेंट को पता करने तथा उसको करेक्ट करने मे मदद करता है|

Plagiarim फ्री कंटेंट के साथ रैंकिंग और गूगल adsense अप्रूवल पाने के लिए आसान बनाता हैं|

इन ऑनलाइन टूल्स की मदद से आप अपने कंटेंट के यूनिक होने का पता लगा सकते है|

इन्ही टूल्स को प्लागिअरिस्म चेकर कहा जाता है|

वे लोग जो ब्लॉग पोस्ट और वेब साइट पर लिखते है, उनके लिए प्लागिअरिस्म चेकर बहुत ही काम की चीज है|

वह अपनी द्वारा लिखी गई आर्टिकल्स और स्टोरीज को उस मे डाल कर आसानी पूर्वक पता कर सकते है , कि उनके द्वारा लिखी गई आर्टिकल्स कितनी यूनिक है , यदि आपके आर्टिकल्स किसी और वेबसाइट द्वारा कॉपी की गई होगी , तो plagiarism checker आपको बता देगा, कि यह आर्टिकल्स कौन सी वेब साइट से कॉपी की गयी है और साथ ही उन वेब साइट के लिंक भी आपके साथ शेयर कर देगा |

Plagiarism Checker टूल का इस्तेमाल क्यों किया जाता है?

Plagiarism चेकर टूल्स का यूज़ या इस्तेमाल लिखे गये कंटेंट की या आर्टिकल की ओरिजनली को चेक करने के लिए किया जाता है|

इसका इस्तेमाल कर के आप आसानी से अपने कंटेंट मे डुप्लीकेट कंटेंट का पता लगा सकते है|

इसके  द्वारा हम अपने कंटेंट मे quoted मटेरियल , paraphrased मटेरियल, wordings मे समानता आदि का पता लगा सकते है|

इन सभी चीजो को खुद से मैन्युअली करना असभव है इसलिए plagiarism चेकर का इस्तेमाल किया जाता है ऐसे कार्य को आसान बनाने के लिए ही plagiarism चेकर टूल्स का इस्तेमाल किया जाता है| 

  • यदि आप अपनी वेब साइट पर या ब्लॉग के लिए किसी और कंटेंट राइटर को hire करते है , और वह आपको कंटेंट लिख देते है , तो आप प्लागिअरिस्म चेकर टूल्स के द्वारा उन आर्टिकल को उसमे कॉपी करके चेक कर सकते है , कि वह आर्टिक्लस कितना यूनिक है और कितना दुसरे कंटेंट से कॉपी किया हुआ |
  • Plagiarism checker टूल्स के इस्तेमाल  का सबसे बड़ा फायदा ये भी होता है कि यह आपको बिलकुल ओरिजिनल कंटेंट बनाने मे सहायता करता है |   यदि कही भी एक वाक्य कॉपी किया हुआ होता है , तो इसके द्वारा आसानी से पता लगाया जा सकता है और साथ ही आप यह भी पता लगा सकते है , कि आपका ओरिजिनल कंटेंट कोई और कॉपी कर रहा है या नही|

8 Best Plagiarism Checker Tools

1. Copyscape

Copyscape या कॉपीराइट  चेकर टूल्स कंटेंट चेक करने के लिए बहुत ही अच्छा प्लागिअरिस्म टूल है|

यहाँ पर आपको कॉपी राईट कंटेंट चेक करने की  ज्यादा मेहनत नही करनी पडती है आप जिस भी कंटेंट या ब्लॉग चेक करना चाहते है  उस कंटेंट या ब्लॉग का यूआरएल इस टूल मे पेस्ट कर दें और बाकि काम  यह टूल खुद कर लेता है|

फ़िलहाल ये टूल आपको ऑनलाइन फ्री मे ही अवेलेबल है लेकिन आप इस टूल के जरीये केवल 6 या 7 यूआरएल को ही चेक कर सकते है अगर आप इससे ज्यादा यूआरएल एक साथ चेक करना चाहते है तो आपको इसका paid वर्शन BUY करना पड़ेगा |  

कॉपी-स्केप का इस्तेमाल कैसे करे- सबसे पहले आपको कॉपी स्केप की वेब साइट  के होम पेज जाकर वह पर सर्च बॉक्स पर जाकर अपने ब्लॉग या कंटेंट का यूआरएल डालकर आपको गो बटन पर क्लिक करना हैं|

अगर आपका कंटेंट ओरिजिनल होगा और आपके पोस्ट को किसी ने कॉपी नही किया होगा तो आपको कुछ इस तरह से ( no result found ) का शो करेगा|

लेकिन अगर ब्लॉग या कंटेंट कॉपी होगा या फिर आपके कंटेंट को किसी और वेबसाइट ने कॉपी किया होगा तो आपके कंटेट या ब्लॉग को हाईलाइट कर के रिजल्ट शो करेगा|

2. Small SEO Tools

 यह भी एक Free Plagiarism Checker Tool है जो आपको गूगल पर आसानी से मिल जायेगा इसके लिए आपको गूगल पर पगिअरिस्म चेकर टूल्स करके सर्च करना होगा|

Small SEO Tools , ऑन करते ही आपको एक टेक्स्ट बॉक्स दिखाई देगा,उस टेक्स्ट बॉक्स मे आप अपने कंटेंट को दल कर चेक कर सकते है , कि आपका कंटेंट किसी और वेब साइट के कंटेंट के साथ मिल तोह नही रहा है या नही|

आप इसमें एक बार मे केवल 1000 वर्ड्स का कंटेंट ही चेक कर सकते है |

3. Grammarly

Grammarly एक ग्रामर चेकिंग टूल्स है , जिससे आप प्लागिअरिस्म भी चेक कर सकते है यह बहुत ही पॉवर फुल plagiarism checking tool है|

लेकिन इसमें आप केवल इंग्लिश कंटेंट ही चेक कर सकते है|

यह एक प्रीमियम प्लान Plagiarism Checker Tool है|

इसमें आप जब भी कोई कंटेंट लिखते है , तो लागिअरिस्म चेकिंग वाले आप्शन को बंद  करके आप लिखने के साथ ही साथ यह भी पता कर सकते है कि आपका कंटेंट कॉपी है या नही|

4. Quetext

Quetext एक premium plagiarism checker tool है  ये टूल सबसे एक्यूरेट रिजल्ट देता है और सबसे अछी बात ये इसमें न केवल इंग्लिश से पैराग्राफ चेक होते है बल्कि हिंदी का भी प्लागिअरिस्म चेक करता है|

Quetext मे आप अपना कंटेंट डायरेक्ट पेस्ट कर सकते है और वह आपको बता देगा कि आपका कंटेंट प्लगी-arised है या नही|

आपको फ्री आप्शन भी मिलता है quetext मे पर वह बहुत सिमित है|

इस टूल का यूजर इंटरफ़ेस बहुत ही बढ़िया है तथा इसका इस्तेमाल करना भी काफी आसान है इसमें आपको सभी similarities underlined की हुई मिलेगी और इसके आलावा भी प्लागिरिस्म परसेंटेज भी डिस्प्ले की हुई मिलेगी|

Quetext इस्तेमाल करने के लिए एक सेफ Plagiarism Checker Tool है|

5. Plagiarism Detector

Plagiarism Detector एक बहुत ही बढ़िया और इन्टरनेट पर फ्री मे उपलब्ध है इस टूल मे आप एक बार मे 1000 वर्ड्स चेक कर सकते है|

अगर आप 1000 वर्ड से अधिक वर्ड्स चेक करना चाहते है तो आपको इसका प्लान buy  करना पड़ेगा|

जिसमे आप 25000 वर्ड्स तक एक बार मे चेक कर सकते है|

इस टूल मे आप फाइल अपलोड करके या यूआरएल का इस्तेमाल करके और अपने कंटेंट को कॉपी पेस्ट करके भी चेक कर सकते है|  

इस टूल का इस्तेमाल –

  • net पर विजिट करें |
  • विजिट करते ही आपको एक बॉक्स बना दिखाई देगा उसमे अपने कंटेंट को पेस्ट कर दें |

अब चेक plagiarism के बटन पर क्लिक करें|

इसके बाद आपको ये टूल असली और नकली कंटेंट की जानकारी प्रदान कर देगा|

6. Google

गूगल सर्च इंजन का इस्तेमाल भी आप अपने कंटेंट की ओरिजिनली चेक करने के किया जाता है|

लेकिन इस टूल का इस्तेमाल अन्य टूल्स की नही तरह नही किया जाता है यहाँ पर आपको सिंगल–सिंगल pragraph को छोटे छोटे भाग कर के चेक करने पड़ते है|

गूगल सर्च  इंजन का इस्तेमाल —

  • सबसे पहले आपको गूगल सर्च इंजन को ओपन कर लेना होगा|
  • अब आप जिस आर्टिकल को चेक करना चाहते है उसका छोटा सा पैराग्राफ कॉपी करें और गूगल सर्च बार मे पेस्ट कर दे| उसके बाद सर्च के बटन पर क्लिक करें|

अगर कोई कंटेंट उस पैराग्राफ से मैच कर गया तो वह आपको निचे दिखाई देने लग जायेगा और आपको पता चल जायेगा कि आपके कंटेंट मे कितना कॉपीराइट material हैं|

7. Dupli-Checker

Dupli-Checker भी एक पोपुलर Free Plagiarism Checker Tool है|

इसकी मदद से आप अपने कंटेंट को चेक कर सकते है , कि आपका कंटेंट कॉपी किया गया है या नही|

Dupli-Checker एक बहुत ही अलग फीचर्स भी देखने को मिलेगे , इसमें आप आर्टिकल के लिए keywords भी सर्च कर सकते है|  

Dupli-Checker मे आप एक बार मे केवल 1000 वर्ड्स  चेक कर सकते है|

आप इसमें हिंदी और इंग्लिश दोनों भाषा मे अपने पैराग्राफ्स चेक कर सकते है ,कि कंटेंट चोरी का है या नही| 

8. Search Engine Reports

Search Engine Reports भी एक बहुत ही अच्छा Plagiarism checker tool है , इसका मुख्य कारण यह है कि ये गूगल एक्साक्ट सर्च अथार्थ इंडिविजुअल सेंटेंस को सर्च किया जाता किया जाता है|

ये गूगल मे कंटेंट के मैचिंग सोर्स को भी सर्च कर देता है|

ये टूल छोटे पैराग्राफ्स को चेक करने के लिए बेहतर है लेकिन यदि आपको एक आर्टिकल को चेक करना होगा तब आपको इतनी सुविधा उपलब्ध नही नही है , वही आपको प्लागिअरिस्म टेक्स्ट हाईलाइट भी नही मिलेगी|

Plagiarism के नुकसान

जैसा कि अब आपको पता लग ही चूका है कि plagiarism kya hai और plagiarism checker tools कौन से हैं| 

Plagiarism के फायदे तो ज्यादा नही थे लेकिन इसके नुकसान काफी है –

  • यदि आप किसी के कंटेंट को कॉपी करके अपनी वेब साइट पर लिखते है , तो आपको इससे काफी नुकसान उठाने पड़ सकते है क्युकी कॉपी किया हुआ आर्टिकल गूगल पर कभी रैंक नही कर सकता है |
  • यदि आप ज्यादा प्लागिअरिस्म वाले कंटेंट लिखते है तो गूगल आपकी वेब साइट या ब्लॉग को बंद कर सकता है |

किसी के शब्दों को चोरी करना कॉपीराइट इशू मे शामिल करता है ,यानि कि कॉपीराइट एक्ट के कारण आपको इसके लिए जुर्माना भी भरना पड़ सकता है|

निष्कर्ष: Plagiarism Kya Hai

यह था हमारा आज का article plagiarism के उपर| हम आशा करते हैं की आपको यह article पसंद आया होगा|

वैसे तो Plagiarised content नही लिखना चाहिए औरकोशिश करनी चाहिए की आपका article यूनिक और valubale हो|

लेकिन अगर आपके content में 10-15% तक का plagiarised content आ जाता है तो कोई फरक  नही पड़ता है|

इसलिए जब भी अपना content लिखे तो उसे पब्लिश करने से पहले plagiarism checker tool की सहायता चेक कर लेना चाहिए|

आपको यह article पसंद आया तो इसे अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करें|

धन्यवाद| 

Vijay Kumar

CashFlow INDIA की स्थापना अंतरराष्ट्रीय स्तर पर Vijay Kumar ने की है। अपने दो ऑनलाइन और दो ऑफ़लाइन व्यवसायों के साथ असफल होने के बाद, उन्होंने रास्ते में सीखे गए सबक सिखाने के लिए CashFlow INDIA बनाया। CashFlow INDIA को लॉन्च करने के बाद से, Vijay ने जल्द ही रणनीतियों को प्रकाशित करके खुद के लिए एक नाम बना लिया, जिसका उपयोग मार्केटर अपने ऑनलाइन व्यवसाय को बढ़ाने के लिए कर सकते हैं। CashFlow INDIA अब सबसे लोकप्रिय हिन्दी ब्लॉगों में से एक है।

Leave a Reply